Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

Soul sustenance 13th september hindi

September 13, 2023

सकारात्मक जीवनशैली के लिए 10 स्टेप्स (भाग 1)

हम सभी ने यह अनुभव किया होगा कि, जैसे-जैसे हम अपने जीवन की यात्रा में आगे बढ़ते हैं, तो कभी-कभी ऐसे पल आ सकते हैं जो हमारे जीवन और भाग्य को बदल देते हैं। और ये बदलाव वाले पल वो पल होते हैं जब हमारे जीवन में कुछ महत्वपूर्ण घटित होता है और उसके बाद जीवन पहले जैसा नहीं रहता। आइए इन्हें उदाहरण द्वारा समझें; मान लीजिए कि, आपने अपने जीवन में एक बहुत ही महत्वपूर्ण शैक्षिक डिग्री प्राप्त की और उसके बाद करियर में बहुत सफलता मिलने के बाद आपका जीवन बदल गया और यह एक सुंदर और आनंदमय यात्रा बन गया। ऐसी सफलता के बाद आपको अपने परिवार, दोस्तों और दुनिया में बहुत से लोगों द्वारा बहुत सारी प्रशंसा और सम्मान मिलता है। अब आइए दूसरा उदाहरण देखें – कोई व्यक्ति अचानक अपनी नौकरी खो देता है और उसका ऑफिस वा संस्थान, जिसके लिए उसने अपना पूरा जीवन, समय और प्रयास दिया, बदले में उसके साथ ऐसा करता है। उसे ऐसा लगता है कि, सबकुछ खत्म हो गया है। साथ ही उसके मन में यह बात भी आती है कि, मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है – मेरी कंपनी मुझे जॉब छोड़ने के लिए कह रही है? यह मेरे जीवन का एक सबसे डिप्रेसिव मोमेंट है। यहां पर दो अलग और ऑपोजिट उदाहरणों का उल्लेख इसलिए किया है क्योंकि, जीवन में दोनों ही परिस्थितियां आ सकती हैं। लेकिन जय-पराजय, प्रशंसा-अपमान, सुख-दुःख में स्टेबल और एक समान रहना ही सच्चे सफल व्यक्ति की निशानी है।

हम सभी एक सामाजिक प्राणी हैं; नौकरी करते हैं, बिजनेस करके अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं, बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए स्कूल भेजते हैं और इसके साथ ही हमें अक्सर शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं, परिवार और कार्यस्थल में संबंधों में समस्याओं और घर वा अपने काम पर अन्य समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन इन सबके बीच हमें स्थिर, शक्तिशाली, संतुष्ट और शांतिपूर्ण बने रहने की जरूरत है। जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। लेकिन हमें अपने इंटरनल सेटिसफैक्शन और कंटेंटमेंट को किसी भी परिस्थिति में नहीं छोड़ना चाहिए। ऐसे ज्ञान को एप्लाई करके हम अपने जीवन को दूसरों के लिए एक एग्जाम्पल बना सकते हैं, नाकि किताबी ज्ञान द्वारा। तो आइए इन स्टेप्स को समझते हुए सकारात्मक जीवनशैली अपनाएं।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »