Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

June 17, 2024

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं को महत्व देते हैं क्योंकि हमें लगता है कि इन सभी चीजों से हमें खुशियां मिलेंगी। वैसे तो आज विज्ञान और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में हमने बहुत प्रगति कर ली है, पर जब बात खुशी की सुंदर स्थिति को प्राप्त करने की होती है, तो हम पाते हैं कि बहुत कुछ नहीं बदला है और यकीनन हम इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं कि हमने इस विषय में कोई प्रगति नहीं की है। हममें से सभी को ये लगता है कि, खुश रहने के बजाय, हमने अपना कीमती समय चिंता और चीज़ों को हासिल करने में बर्बाद कर दिया कि ये सब हमें सफलता की ओर ले जाएंगे और  तब हमें खुशी अनुभव होगी। लेकिन हमें ये जानना होगा कि इन सब बातों से परे, खुशी तो हर एक आत्मा की अपनी नेचुरल स्टेट है, जिसे आज संसार में हासिल करना बड़ा मुश्किल हो गया है, क्यूंकि लोगों के लिए इसका आधार फिजिकल अटेनमेंट और सफलताओं पर निर्भर करता है। 

 

आज से पहले, जब हम बच्चे थे तब हम स्वाभाविक रूप से खुश और रोमांचित रहते थे। हम चिड़ियों की चहचहाहट में या फिर स्कूल में अपने किसी मित्र के साथ टिफिन शेयर करने जैसी छोटी-छोटी बातों में भी खुशियों को ढूँढ लेते थे और उन अनुभवों को दूसरों के साथ साझा भी करते थे। लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते गए और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों जैसे कि; शिक्षा में, परिवार, व्यापार में सफलता आदि अपने लक्ष्यों को पूरा करने का दबाव महसूस करने लगे और ये भूल गए कि एक मनुष्य होने के नाते हमारी सबसे मूलभूत ज़िम्मेदारी है खुश रहना। यदि हम अपने खुश रहने के इस नेचुरल स्वभाव के विपरीत जाएंगे, तो हम कहीं भी नहीं पहुंच पाएंगे। हममें से प्रत्येक के पास एक तस्वीर तो है ही, चाहे वो कितनी भी अस्पष्ट क्यूँ न हो, कि हम इस जीवन में क्या हासिल करना चाहते हैं। हम अपने धन, स्वास्थ्य या फिर सामाजिक रिश्तों में सफलता की आकांक्षा रखते हैं। और हम अपने उस लक्ष्य को प्राप्त करने के कितने करीब हैं यह हमारे अपने जीवन की गुणवत्ता का पैमाना बन जाता है। यदि ये हमारे पहुँच के बाहर हैं तो हमें दुख होता है, गुस्सा आता है। और इससे भी ज्यादा समस्या तब आती है जब हम इसके प्रति इतने ज़्यादा ऑब्सेस्ड हो जाते हैं कि वर्तमान पल को एंजॉय करना ही भूल जाते हैं। और जब ऐसा होता है, तब हम अपने जीवन में संतुष्टता की सारी संभावनाओ को पीछे छोड़ देते हैं।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए