Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

हमारे थॉट्स की इनर फैक्टरी हमारा मन: उसका ध्यान रखें

July 1, 2024

हमारे थॉट्स की इनर फैक्टरी हमारा मन: उसका ध्यान रखें

मान लीजिए, किसी फैक्ट्री में प्रतिदिन 50,000 कपड़े बनते हैं, अब अगर इनमें से अगर कुछ ही कपड़े काम के हों और बाकी किसी भी काम के न हों तो ये अच्छा नहीं होगा। ऐसे ही हमारा मन जो कि हमारी इनर फैक्ट्री है; एक दिन में लगभग 40,000 से 50,000 थॉट्स क्रिएट करता है। हमारे हर एक थॉट में, शब्दों और कार्यों को शक्तिशाली ढंग से परिवर्तित करने की क्षमता होती है। इसलिए अपनी इस इनर फैक्ट्री के मालिक होने के नाते, हमें ये सुनिश्चित करना होता है कि हमारा हर एक विचार उपयोगी हो। हमारा जीवन; थॉट्स की एक लंबी चेन है जो हमारे शब्दों और व्यवहार में झलकते हैं। जिस तरह से, एक किसान बीज़ बोने से पहले उसकी गुणवत्ता को पूरी तरह से जांचता है, ठीक उसी तरह से हमें भी अपने विचारों रूपी बीज को जांचने की आवश्यकता है जोकि शब्दों और कार्यों के रूप में हमें फल देते हैं। दूसरे शब्दों में, हमें अपनी थॉट फैक्ट्री की ज़िम्मेदारी लेने की जरूरत है। आइए इसके बारे में कुछ बातों को जानें:

  1. हमारा हर विचार 4 तरह से प्रभाव डालता है- भावनाएं पैदा करना, हमारे शरीर की हर एक सेल को प्रभावित करना, जिस व्यक्ति के बारे में हम सोच रहे हैं उस व्यक्ति तक पहुंचना और वातावरण में रेडिएट होना। इस तरह से हमारे थॉटस; हमारी भावनाओं, हमारे स्वास्थ, संबंधों और वातावरण से जुड़े होते हैं।
  2. हर घंटे में, एक मिनट के लिए अपने थॉट्स को चेक करें और उन्हें 4 श्रेणी में विभाजित करें- शांति, प्रेम, खुशी और स्वीकार भाव के सकारात्मक विचार; इगो, हर्ट, क्रोध, नफरत या ईर्ष्या के नकारात्मक विचार; हर दिन की गतिविधियों से संबंधित आवश्यक विचार, जिनमें चिंता, भय, तनाव या चिड़चिड़ेपन के इमोशंस न हों। और हमारे अतीत, भविष्य या दूसरे लोगों से संबंधित वेस्ट थॉट यानि कि व्यर्थ संकल्प जो हमारे नियंत्रण में नहीं होते हैं।
  3. खुद को सशक्त करने की राह में सबसे पहला कदम होता है; प्योर थॉट्स क्रिएट करना और हर एक के लिए शुभभावना रखना। आध्यात्मिक ज्ञान का अध्ययन करने से धीरे-धीरे हमारे मन की गति धीमी होने लगती है और हमारे सबकॉन्शियस माइंड में नए विचार आना आरंभ होते हैं। हमारी इस स्पिरिचुअल चार्जिंग से हमारा हर विचार एक प्रोडक्ट बन जाता है, क्यूँकि हमारे विचारों के निर्माण में सबसे बड़ा योगदान हमारे द्वारा ली गई इनफॉरमेशन का होता है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए