Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

जीवन में फ़िल्टर्स को बारीकियों से चेक करना

February 13, 2024

जीवन में फ़िल्टर्स को बारीकियों से चेक करना

आज फिजिकल लेवल पर; कई तरह के और कई रंग के फिल्टर होने के साथ-साथ, आध्यात्मिक स्तर पर भी कई तरह के फिल्टर मौजूद हैं, जोकि हमारे जीवन में काम करते हैं जैसे; ईर्ष्या का फिल्टर, घृणा, भय, लालच का और लगाव का फिल्टर आदि। होता क्या है कि इन फिल्टरों के कारण, हम लोगों और स्थितियों को वैसे नहीं देख पाते जैसेकि वे हैं, बल्कि हम उन्हें अपने द्वारा क्रिएट किए गए फिल्टर के माध्यम से देखते हैं। तो ऐसे में, यदि हम लोगों और स्थितियों को वैसे ही देखना चाहते हैं जैसे वह हैं तो हमें यह चेक करना होगा कि, हम अपने जीवन में सबसे ज्यादा कौन से फ़िल्टर यूज़ कर रहे हैं। हम सभी के पास हमारे व्यक्तित्व के आधार पर, अलग-अलग फिल्टर मौजूद हैं। उदाहरण के लिए; किसी के जीवन में डर की तुलना में ईर्ष्या का फिल्टर अधिक यूज़ होता है। 


इन फिल्टरों के कारण हम जो कुछ भी देखते हैं वह न केवल उस फिल्टर के रंग से रंगा होता है, जिसे हम उस समय उपयोग कर रहे होते हैं, बल्कि साथ ही हमारा नज़रिया भी बायस्ड होता है क्योंकि ये निर्भर करता है कि; क्या देखना है, किसे अधिक महत्व देना है, किस से प्रभावित होना है, कितनी छानबीन करनी है या नहीं करनी है। हम अपने मन के अंदर उन स्थितियों और लोगों के बारे में भ्रांतियां पैदा कर लेते हैं और यह भ्रांति जितने लंबे समय तक रहेगी, उतना ही अधिक हम उसे सच मानकर चलते रहेंगे कि, दुनिया का सच यही है। क्योंकि हमारे फिल्टर के आधार पर नया-नया डेटा प्रोसेस होता रहता है जो हमारे उस बिलीफ़ को और दृढ़ बनाता है। और जैसे-जैसे हम अपनी जीवन यात्रा से गुजरते हैं, तो विभिन्न फिल्टरों के आधार पर बना गलत मान्यताओं का डेटाबेस और अधिक मजबूत होता जाता है। इस प्रकार जिस दुनिया को हम देखते हैं, असल में वह वास्तविक दुनिया नहीं है बल्कि हमारे अपने मन द्वारा रची गई दुनिया है। इसे हम ऐसे समझ सकते हैं कि, स्पिरिचुअल लेवल पर हम दुनिया के प्रति बहरे और अंधे हो जाते हैं या अपनी आंखें बंद कर लेते हैं। अब इस बहरे और अंधेपन को ठीक करने के लिए, हमें एक-एक करके अपने हर फिल्टर को हटाने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह मुश्किल काम है। बल्कि हमें अपने रियल सत्य स्वरूप में रहकर, अपनी शुद्ध और पारखी नज़र के आधार पर और बिना किसी फिल्टर के हर चीज को देखना शुरू करना होगा, जिसके फलस्वरुप गलत मान्यताएं धीरे-धीरे डिसॉल्व होने लगेंगी और हमारे बिना किसी फिल्टर के, सच को देखने के दृष्टिकोण के आधार पर सही मान्यताएं इमर्ज होने लगेंगी।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं

Read More »