Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

सम्पूर्ण फरिश्ता बनने के पाँच सरल कदम (पार्ट-1)

March 1, 2024

सम्पूर्ण फरिश्ता बनने के पाँच सरल कदम (पार्ट-1)

हमारे दैनिक जीवन का एक अहम पहलू है कि दिनभर में जिन लोगों से हम मिलें, उन सबको सम्मान दें और जब उनसे विचारों का आदान-प्रदान हो तब उनकी हम प्रशंसा करें। लोग अक्सर हमसे बात करते हैं और वो हमसे प्रेम-भरे व्यवहार की उम्मीद रखते हैं। इसलिए अपने व्यवहार और शुभ-भावनाएं, जो मेरी इनर पाॅजीटिविटी (आन्तरिक सकारात्मकता) का हिस्सा हैं, से दूसरों की सेवा करने के लिए मुझे उन सभी गुणों रूपी खज़ानों से स्वयं को भरना होगा जो मानव स्वभाव में निहित हैं। एक भी सकारात्मक नेचुरल विशेषता या गुण की कमी नहीं होनी चाहिए। जब हमारे अन्दर सभी गुणों की भरपूरता होगी, तो लोगों को हमसे सम्पूर्णता की महसूसता होगी और उन्हें भी खुद को सम्पूर्ण बनाने की प्रेरणा मिलेगी। कभी-कभी एक नकारात्मक शब्द, कर्म या फिर चेहरे के भाव लोंगों को हमसे दूर कर देते हैं और वो हमारे प्रति नकारात्मक हो जाते हैं। आइए, इस संदेश द्वारा हम एक परफेक्ट ह्यूमन या फरिश्ता बनने के विभिन्न प्रैक्टिकल तरीकों को जानने की शुरुआत करते हैं; जिससे सभी प्रेरित हों और वे हर कदम पर एक ऐसा उदाहरण प्रस्तुत कर सकें; जिसे आसानी से दूसरे भी फाॅलो कर सकें – 

 

  1. मैं एक आत्मा हूॅ, इस फीलिंग में स्थित हो जाएं – 

सबसे पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम सम्पूर्ण बनने के लिए है कि, हम अपने को आत्मा समझें, नाकि मानव शरीर। यह इसलिए ज़रूरी है क्योंकि आत्मा ही सारे काम करती है। यह स्मृति कि, मैं ही अपने किए गए कार्यों के लिए जिम्मेवार हूँ, मुझे सकारात्मक और शक्तिशाली बना देती है और मैं अपने अन्दर सकारात्मक बदलाव लाने के लिए सदा तैयार रहती हूँ। आत्मा एक बेहद पोटेंशियल एनर्जी है जो थॉट या फिर पर्सनल लेवल पर, अपनी सूझबूझ तथा दृढ़ता की शक्ति से कोई भी बदलाव ला सकती है। इसलिए आप सुबह उठने से लेकर सारा दिन, मैं एक आत्मा हूँ इस फीलिंग में रहें तो आपके सारे कर्म बढ़िया और परफेक्ट होंगे। 

(कल जारी रहेगा )

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए