Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

जो लोग हमसे अलग हैं, उनके लिए करुणा भाव रखें

May 22, 2024

जो लोग हमसे अलग हैं, उनके लिए करुणा भाव रखें

केवल यह स्वीकार कर लेने मात्र से कि, आप मूल रूप से दुनिया को, दूसरों से अलग रूप से किस प्रकार देखते हैं, क्या आप उन लोगों के प्रति जो आपसे अलग हैं उनके लिए दया या करुणा की अवेयरनेस विकसित कर सकते हैं। आपके सम्पर्क में आने वाले, हर व्यक्ति का मतलब अलग-अलग होता है।

 

हममें से कई लोगों स्वाभाविक तौर से दूसरों के व्यवहार के प्रति जजमेंटल होते हैं और हमें हमेशा यही लगता है कि, हम उनके बारे में जो महसूस करते हैं वो सब सही है। बहुत ही आसानी से, हम लोगों पर सही या गलत का लेबल लगा देते हैं। लेकिन ये सही या गलत किसके हिसाब से है? हमारे अपने दृष्टिकोण के हिसाब से? एक ही परिस्थिति के लिए  अलग-अलग लोगों का दृष्टिकोण अलग-अलग होता है और हम उन्हें समझ पाने में असमर्थ होते हैं क्यूँकि हम हमेशा से ही चीजों को अपने दृष्टिकोण से देखते आए हैं। हमारा दृष्टिकोण; हमारे संस्कारों और अतीत के अनुभवों के आधार पर क्रिएट होता है और ये संस्कार ही हमारा लेंस बन जाते हैं जिससे हम किसी भी परिस्थिति को देखते हैं। जबकि उसी परिस्थिति को अलग-अलग लोग, अपने-अपने दृष्टिकोण से देखते हैं और ऐसी स्थिति में हम खुद को यही बोलता हुआ पाते हैं कि- वे हमारी हम समझ से बाहर हैं! आइए समझें कि, सही और गलत कुछ नहीं होता है, बस हम सब अलग हैं। माता-पिता सही हैं बच्चे गलत हैं; पति सही है पत्नी गलत है; बॉस सही है कर्मचारी गलत हैं- इस सही और गलत के चलते ही हम आपसी संबंधों में, अपना विश्वास और सम्मान खो देते हैं। हम सभी अलग हैं क्योंकि हमारे संस्कार अलग हैं और हम सभी अपने संस्कारों के लेंस से ही परिस्थितियों को देखते हैं; इसलिए हर एक अपने-अपने दृष्टिकोण के हिसाब से हमेशा सही ही होता है।

 

जब हम, हर एक को इस समझ के साथ देखना शुरू करेंगे कि, वे हमसे अलग हैं तो हम क्रिटिसिज़्म से करुणा पर शिफ्ट होंगे और उनके लिए हमारा प्यार और सम्मान निरंतर बना रहेगा। चाहे हम उन्हें कितना भी गलत क्यों न मानें, लेकिन याद रखें कि, वे अपने संस्कारों के हिसाब से महसूस करते हैं और व्यवहार करते हैं, इसलिए वे पूरी तरह से सही हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »