मानसिक और शारीरिक सर्वागिण स्वास्थ्य करोना से बचने का बेहतर तरीका

और शारीरिक सर्वागिण स्वास्थ्य करोना से बचने का बेहतर तरीका - brahma kumaris | official
0 Comments

राष्ट्रीय खेल दिवस पर बाईकर्स रैली उदयपुर के लिए रवाना, करोना जागरूकता का दे रहे संदेश

शिव आमंत्रण, आबू रोड, 29 अगस्त, निसं। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयेागिनी बीके मुन्नी ने कहा कि करोना से बचाव के लिए सावधानी के साथ तन और मन का सर्वागिण स्वाथ्य जरूरी है। उक्त उदगार राष्ट्रीय खेल दिवस पर ब्रह्माकुमारीज संस्था स्पोर्ट प्रभाग की ओर से आयोजित बाईक राइडर्स रैली का शांतिवन से करोना जागरूकता रैली के हरी झंडी दिखाकर रवाना करते हुए व्यक्त किये।
उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ सालों में करोना से स्थितियां बिगड़ी हैं। परन्तु अब धीरे धीरे सामान्य हो रही है। परन्तु हमें इसमें लापरवाह नहीं बनना है। बहुत ही सावधानी रखनी है। इसी उद्देश्य को लेकर यह रैली निकाली गयी है। जिससे लोगों में इसके प्रति जागरूकता फैलेगी।
कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर आबू रोड तहसीलदार रामस्वरूप जौहर ने कहा कि हमने देखा है कि करोना कॉल में सबसे बड़ी जरूरत खुद का ध्यान रखने की होती है। ब्रह्माकुमारीज संस्थान ने करोना काल में बहुत मदद की है। यह संभाग का ही नहीं बल्कि प्रदेश में बड़े स्तर पर है। जिसमें आने वाले लोगों के भोजन बिजली और पानी की व्यवस्था कर  बहुत ही पुनित कार्य किया है। इसी कड़ी में जागरूकता अभियान से लोगों के जीवन में कुछ ना कुछ बदलाव जरूर आयेगा।

इस अवसर संस्थान के मल्टी मीडिया चीफ बीके करूणा तथा कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय ने कहा कि यह बाईक रैली अभी छोटे स्तर पर है। बाद में से राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किया जायेगा। तथा पूरे भारत में इससे जागरूकताा अभियान के जरिए लोगों को इसके प्रति जागरूकता फैलायी जायेगी। कार्यक्रम में बीके बनारसी, बीके मोहन सिंघल, बीके जगवीर, बीके शिविका, बीके कोमल, बीके मोहन समेत कई लोग उपस्थित थे।
15 बाईक रार्डर्स हुए रवाना: इस बाईक रैली में ब्रह्माकुमारीज संस्थान के अलावा एअरफोर्स के जवान भा शामिल हुए। इसके बाद उदयपुर में जागरूकता कार्यक्रम आयेाजित कर वापस लौट आयेंगे।
हरी झंडी दिखाकर दी रवानगी: ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन में रैली पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। इसमें संस्था की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके मुन्नी, मीडिया चीफ बीके करूणा, तहसीलदान रामस्वरूप जौहर, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, बीके मोहन सिंघल, बीके डॉ बनारसी समेत कई लोगों ने अपने विचार व्यक्त किये।

Choose your Reaction!
Leave a Comment

Your email address will not be published.